और गुनहगार हो गया हूँ!@

जबसे तहदार हो गया हूँ मैं
एक शाहकार हो गया हूँ मैं

ख़ुद से उलझा तो ये समझ आया
कितना दुश्वार हो गया हूँ मैं

जबकि सालिम हूँ फिर भी लगता है
जैसे मिसमार हो गया हूँ मैं

होश की बात अब नहीं करता
क्या समझदार हो गया हूँ मैं?

मुन्तख़ब इश्क़ ने किया मुझको
और गुनहगार हो गया हूँ मैं

Advertisements