नारी का स्थान (सनातन धर्म)

779590b63fa2d332e286092352881d6a.jpgनारी का स्थान!!!

जै जै कुँज विहारी                                                                                                                    जै जै कुँज विहारी
(श्री राधा विजयते नमः)

हिन्दू दर्शन में नारी का स्थान!!

Date:- 09/09/2018
स्वामी श्री हरिदास राधेशनन्दन जू
 हमारे गौरवपूर्ण भारतीय संस्कृति के अनुसार नारी शक्ति के मातृ स्वरूप की महिमा विषय पर आज का यह लेख है। नारी हमारे भारतीय समाज मे अनेक स्वरूप में स्थान प्राप्त करती है। वह माँ है, बेटी है, पत्नी है, बहन है परंतु नारी सबसे ऊँचा स्वरूप मातृ शक्ति के रूप में होता है। हमारे भारतीय दर्शन के अनुसार संसार का हर रिश्ता कोई न कोई स्वार्थ से…

View original post 1,357 more words