श्री हरिदास

स्वामी हरिदास को शिष्य, भयौ हरिदास।
हरिदास को नाम जपत, हो गयो हरिदास।।


श्री भगवान के नाम रस का पान करने हेतू कथा कराने के लिए सम्पर्क करें।
 स्वामी जी द्वारा की जाए वाली कथा पूर्णरूप से भावमय होती है। अतः कथा कराने के इच्छुक ही सम्पर्क करें।
 स्वामी जी द्वारा  की गयी कथाएं
     . श्री मद् भागवत पुराण कथा
     . श्री वृन्दावन महिमा
     . श्री गोपी भाव
     . श्री गोपी गीत    
     . श्री राधा चरित्र 
     . श्री हरि कथा

सभी भावपूर्ण भावमय होती हैं जो अलौकिक आन्नद प्रदान करती हैं । एवं।सभी कथाएं आडम्बर कर्मकाण्ड दिखावे से परे होती हैं।

●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
सम्पर्क सूत्र :- +91-9780959017, +91-9781992359
 स्थान :- प्लाॅट नम्बर -352, इण्डस्ट्रीयल एरिया , फेज-1, पंचकुला।।

Advertisements